Dayanand saraswati aur ved

हद है ?




*  सभी मित्रों  के  लिए एक मजेदार लेख  ?

* आज कल वैदिक लोग वेदो का ज्ञान विज्ञान बता रहे है ।

* जिसमे से उदहारण  ०
हवाई जहाज , बंदूक  , तोप इत्यादि ??


* वैदिक कहते है कि  मानव की उत्पत्ति के बाद ही वेदोकि प्रप्ति हो गई थी  4 ऋषिमुनियों को , जब सब तिब्बत के पत्थरोँ में से निकल ने के बाद ।


* आये अब देखते है , वेदों का ज्ञान विज्ञान ?




* और इससे भी बढ़कर दयानन्द सस्वती ने अपनी पुस्तक सत्यार्थ प्रकाश के 8 समुलास में लिखा है । है। कि उनसे प्रशन किया लगा कि सूर्य , चन्द्र इत्यादि में मनुष्य रहते है । उत्तर है : - हा वो भी वेदों के साथ !👌👌




* पृथ्वी के अलावा दूसरी जगह पर मनुष्यों का जीवन असंभव है । हा  अगर सच्चे हो  सूर्य आदि में उनके घर देखा देवे ?


* हा फिर ऐसा हो सकता है कि दयानद जी ने वहाँ जा कर देखा हो ????

👍👍👍👍👍


* भला वेदों में इतना ज्ञान विज्ञान भरा है तो कब जा रहे हो सूर्य में मनुष्यों  की खोज के लिए , और उनके पास भी  वेद है तो वो कब आ रहे है पृथ्वी पर ?




* भला क्या मूर्खता वाली बात है कोई सूर्य में 5500 c में जीवित रह सकता है ?

और चन्द्र में तो कुछ नही मिला ?
ये सब पोप लीला है वैदिकों की !




*  क्या जब उस पर खोज हो जाती है जब कहते हो कि ये वेदों में था??





* क्योंकर पहले नही बताते की वेद तो ज्ञान का पिटारा है ? 



तो सबसे ज़्यादा वैज्ञानिक हिन्द में होना चाहिये थे ?



* तो  अच्छा हुआ की अन्य देशों में वेद नही पढे न देखे नही तो गुबार और मूत्र पर रिसर्च करते रहते ?




* वैदिकों का कहना है कि हर चीजो को तर्क की आधार पर  मन्ना चाहिए ? 
अगर सही बैठे तो ठीक है  नही तो अमान्य है 
???????

1.महा प्रलय कब आईगी?

2. जीवतात्मा की संख्या कितनी है।

3.वेदास कब (कितनी तारीख को मिले),कैसे, इसका प्रमाण क्या है?

4.स्वमी दयानद सरस्वती धरती पर कब और कहा पुर्णजनम लेगे?

5.कहते है कि लाखो मंत्र वेदास में थे अब खाली 20589 मंत्र बाकी राह गए है, तो अब वैदिक ईशवर पुनः किसी और ऋषि मुनि पर स्रुति क्यों नही कर ता, क्या हमें वो जो लाख मंत्र बर्बाद हो गये उसकी जरूरत भी नही है। इस लिए बाकि के मंत्र कब और किस ऋषि मुनि पर अवरोतित होंगे?


 6.दुनिया को फिर से निर्माण करना है , तो उसे नष्ट क्यों करता है वैदिक ईश्वर? .


7. क्या ईश्वर को नही पता कि इन्शान नंगा पैदा होता है तो 2 जुड़ी कपड़े साथ में भेज दे ? 



* इनको अब तर्क पर नापोगे ??



* मतलब इससे यह स्पष्ट होता है कि वेदों के मंत्रो में भेद है ? इसलिए अमान्य है ?


* क्योंकर न हो मनुष्य के रचे हुई है करके कमी है ?




* अगर सच्चे पालनहार  ईश्वर की वाणी होती तो उसके एक एक शब्द  सत्य होते  इश्वरीय वाणी मनुष्यों के लिए ज्ञान से भरी होती है ।
जैसा उसका ज्ञान होता है वैसा ही उसका कलाम भी होता है !
उसमे कोई किसम की कमी नही होती !

* अगर जिसमे कमी है तो उसमें मिलावट है या फिर वह ईश्वरी वाणी नही  बल्कि झोल है ?

* और अगर  जिसे कुछ निकल भी सकते है उसमें कुछ  एड भी कर सकते है ?
इसलिए वेद अमान्य है ?


* क्यों कि ज्ञान अपूर्ण है  और वेदों में शक की बू आती है ?

* रब की कलाम में कभी कमी नही होती और जिसमे कुछ कमी वह पालनहार का है ही नही ?

* समझदारों के लिए इशारा काफी है ?

* अब देख ते है वेदों में मिलावट  किस तरह से कर के दुनिया को मूर्ख बनाने की शाजिस  रच रहे है ? 

* वेदों की  पहली कॉपी लिखित  नही है इसलिए  जब चाहे डाल दो जब के निकल दो ।



* और जिस की ओरिनल कॉपी नही  तो लाजमी बात है उसमें तो मिलावट बनता ही है ?????????



* बरहाल देखते है वेदों में मिलावट करके लोगो को कितना ज्ञान दे रहे है ?



 * तोप आदि शस्त्रों के उठे धूम  वा  मेघ के आकार जो अस्त्र का धूम होता हैं ।

(यजुर्वेद 17 :46 )



* रक्षक सेनापति का आदर करे  बहुत

से अच्छे बाण , तलवार , बंदूक , तोप और तोमर  आदि शस्त्र जिस के हो उसको अन्न देवे । (  यजुर्वेद 16 : 20 )



* खड्ग , बंदूक  और तोप  आदि  शस्र बनाने वाले  तुम  लोगो  का सत्कार करते है ।
( यजुर्वेद 10 :27 )





* वह सेनापति शस्त्रों को हाथ मे रखने हरे औऱ  सिखये हुए  बलवान जिन के बंदूक  और तोप आदि अग्नि बहुतअस्त्र विद्यमान है । ( यजुर्वेद 17 : 35 )



भुशुण्डि  = बंदूक खड़ग=प्रचीन शस्त्र , तलवार ,बंदूक और तोप आयुधम = हथियार 



* अब ये क्या बात है वाह बंदूक  और तोप ?



Ak47  , रॉकेट लॉन्चर , टैंक , इत्यादि क्यों कर छोड़ दिये । वे भी लेख देते ?क्या ज्ञान बाट रहे हो ?
या फिर हिन्द के भोले भाले  लोगो को मूर्ख बनाने का ठेका ले रखा है ?



* एक  समझदार व्यक्ति केवल यही बात पर हंस सकता है केवल और कुछ नही ?



* क्या महाभारत  और रामायण  में ये अस्त्र शस्त्र का उपयोग हुआ था ??





* या फिर इन युद्ध  के बाद  वेदों की रचना हुई ? जैसे इन लोगो का कहना है ।


*  विलयन  साहब  और  मोक्षमिलर  साहब  

इत्यादि ।  की  वेद  2400 साल , 3000 साल ,  3100  साल  ही  पूराना  है  ।  हा  में  भी  इस   बात  यकीन  रखता  हूं  ।

* अब देखते है बंदूक और  तोप का आविष्कार किसने किया और कब किया ?

* ईसवी सन 1294 में बारूद का अविष्कार हुआ । और 14 वी सदी में तोप का जन्म का आरंभ होने जा रहा था ।15 वी  सदी में बन बंदूक हाथ मे आ गई । उसके बाद मस्केट , मेयलोक ,फिल्टलोट और पिस्तौल और भी आधुनिक राइफल में होने लगा उपयोग ।


* 1884 में पहली मिसाइलगैन बानी !

* अब देखते है तोप का आविष्कार हिन्द में  किसने किया ?

* सन 1792 - 99 ईसवी मैसूर के सुल्तान 
हज़रत टीपू सुल्तान 
(जिनको मिसाइल मैन से  भी जाना जाता है)



* अंग्रेजो के विरुद्ध के में लोहे की बनी रॉकेट मिसाइल का आविष्कार करके प्रयोग किया जिसके चलते ब्रटिश आर्मी में घबराहट का माहोल फैल गया  था , 
( तो भी मुसलमान देशद्रोही है अफ़सोस )
फिर उसके बाद अंग्रेजों ने तोप का महत्व जाना  और उसकी तकनीक को विकसित कर के पूरे विश्व मे फैला दिया ।

* और दुनिया को रॉकेट ( तोप ) देने वाला मुसलमान  देश का बेटा , देश की जान बान  आन , शान हज़रत टीपू सुल्तान
थे । आज कल इनके बारे में भी टिप्पणी कर के देश द्रोही का सर्टिफिकेट बटा जा रहा है । 
जयन्ती पर भी एतराज अफसोस कि बात है 
शर्म आनी चाहिए  जिसने अपने देश के लिए जान देदे वह लोगो देशद्रोही । वाह भाई वाह 

* अनक़रीब इन्हें भी सर्टिफिकेट दे देंगे  ? *

* और ये लोग ने क्या दिया " 0 "
उसके लिए यह देखे 
" 0 " का झोल

* अभी थोड़ी हंसी दबाकर रखे आगे और भी है ।


* आकाश में चलने वाले रथ को आकार स्थिर हो अर्थात उसमे बैठ ।
( यजुर्वेद 17 : 37 )



* बहुत से विमान आदि यानो के बनने हरे ।
( यजुर्वेद 16 :27 )




* अब ये क्या तमाशा है , आकाश में चलने वाला रथ कौन सा था , और रथ चालक का नाम क्या था ?




* भाई किसी चीज की हद होती है , अगर छोटे बच्चे को भी बताए तो वो भी हंस पड़ेगा


* रामायण में रामचन्द्र जी रावण का वध करने के बाद रथ पर  उड़ के गए ।
* महाभारत के 5 G था ।
* प्लास्टिक सर्जरी 
*  गोबर , दही और मूत्र से कैंसर का इलाज
* गडर से गैस का निर्माण इत्यादि ।
वाह वैदिक ज्ञान विज्ञान ।



* मुझे यकीन है कि ये लोग सूर्य पर पानी की खोज कर लेंगे ।सूर्य पर वेदों का जाप तो ढूंढ ही लीया अनक़रीब ये भी ढूंढ ही लेंगे

लगे रहो ।



*मुझे नही लगता कि इसके बाद मुझे कुछ बोलने की आवश्यकता है ।

* विमान ( हवाई जहाज ) का आविष्कार
राइड बंधु ने  17 दिसम्बर 1903 में  के दिन ऑरविल  और वीलर ने कोर्लिना में  राइड फ्लायर नामक विमान  से सफल उड़ान भरी थी ।



* विमान 120 फिट की  ऊँचाई और 12 सेकेंड तक उड़ा था ।




* उसके बार फ्रांस की एक कंपनी ने भी ये दावा किया था लेकिन 1908 ईसवी में पूरी दुनिया मे राइड बंधु को अविष्कार की मान्यता दे दी ? 



* जरा बताना की वह पहले  विमान चालक का नाम और उसके अविष्कार करने वालो का नाम  ?



* बंदूक और तोप के आविष्कार करने वालो का नाम ?






* उत्तर का सूर्य नीचे नीचे गिरता है ।

* सूर्य नीचे नीचे गिरता है , तो उठा लो 
😊😊😊😊😊👌



* जिसके घर शीशे के होते है  ओ दूसरे के घरों  पर  पत्थर नही मारा  करते ?



*  हद है ? 😢 *



*  इसका  का  फैसला में  आप  लोगो  के उपर  छोड़ दे  हु ।



एक  बार  जरूर  निचे  दीये  व्यक्तियो  को जरूर  सर्च   करे  । 👍


 *  पोस्ट  पढ़ने   के  बाद  इन  लोगो  बारे मे 
में  जरूर  सर्च  कर  । 

 * हक़ बात( इस्लाम ) कोई जबरदस्ति नही।(2-256).  

 *पालनहार आज्ञा देता है नेकी का और बेहयाई को नापसंद करता है।(16:90).    
*नसीहत उनके लिए सीधे मार्ग पर चलना चाहे। 
(81:27,28,29)(40:28)
       
* ये मानव तुम लोग पालनहार(अल्लाह) के मोहताज हो और अल्लाह बे-नियाज़ है(सर्वशक्तिमान) है नसीहत वो मानते है जो अक्ल वाले है (13:19).     
    
 * और हरगिज अल्लाह को बे-खबर ना जानना जालिमो के काम से उन्हें ढील नही दे राहा है, मगर ऐसे दिन के लिए जिसमे आंखे खुली की खुली राह जांयेंगी।(14:42)

*कोई आदमी वह है, की अल्लाह के बारे में झगड़ाता है, ना तो कोई इल्म, ना कोई दलील और ना तो कोई रोशन निशानी।(22:8)(31:20)(52:33,34)(23:72)(23:73).                                                      
*कह दो,"सत्य आ गया और असत्य मिट 
गया, असत्य तो मिट जाने वाला ही होता है।
(17:81) 

       
NOTE : -  अल्हम्दुलिल्लाह  जवाब तो हम दे सकते है पर इनके दिमाग मे जंग  लगा है  इसलिए जो जैसी भाषा समझता है उसे वैसे ही समझना पड़ता है ।
💐👌👌👌👌👌👌👌💐


* अगर किसी को ठेस पहुंची तो क्षमा चाहता हु । 

* इस लेख का मकसद किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाना नही बल्कि उन इस्लाम विरोधी को जवाब देना है  जो खुद की धार्मिक गर्न्थो की मान्यता को नही जानते और इस्लाम और मुसलमानों के ऊपर तानाकाशी करते है।



                                धन्यवाद


0 comments:

Veda bhashyakar

सायण भाष्य का महत्व सायणचार्य का जीवन परिचय * सायण ने अपनी रचनामे अपने जीवन चरित्र के विषय मे आवश्यक तथ्यों का निर्देश किय...