ISLAM AUR ATANKWAD

                      

                  आतंक या साजिश

                     






Prophet (PBUH) के जमाने मे और खलीफा के जमाने मे कुल मिला कर 30 जंग होइ है। जिस में केवल 10000 लोग की मोत वो भी दोनों तरफ के मिलाकर।जंग शिर्फ़ सेल्फ डिफेंस में कर सकते है इस्लाम मे। वरना वर्जित है युद्ध करना। और आज के टाइम फिलेंसतीन में ही 3,लाख।शिराया, etc, जगहों पर हजारों लाखों, मुसलमान को जानवरों के जैसा मारा जा रहा है। दुनिया का सबसे बड़ा(jews आतंकवाद है) जो ये कर रहा हैं।

इस्लाम को दुनिया मे बदनाम करने के लिए । इराक,सऊदी के तेल के कुआँ पर कब्जा करने के लिए अमरीका, और इस्राइल ने इस्लामिक आतंकवाद का प्रोपोगंडा रचा है। पैसे देकर काम कर आते है ये 2 स्टेट । जाहिल और ग्वार लोग जो इस्लाम (a) भी नही जानते  उन्हें पैसे का लालच दे कर। ये इस्लाम को बदनाम कर रहे है । दुनिया का सबसे बड़ा एलेक्ट्रोनिक मीडिया यहूदियों के है। वही मीडिया को पैसे दे कर इस्लाम को बद नाम कर व रहा है। आप लोग मीडिया, सोशल मीडिया ।की बात को जल्दी अस्पेट करते हो क्योंकि टेनॉलॉजी ने इन्शान का दिमाग को परालैस कर दिया है। पहले के लोग किताबो से पढ़कर कोई फैसला करते थे। आज जो मीडिया ने कहा दिया पत्थर की लकीर हो गई है। पहले के लोग ex.32+18=? फैट से 50 बोलते थे आज पहले कलकोलेटर निकल थे है।हमे अपने दिमाग इस्तमाल करना छोड़ दिया है।ये सब चाल  यहूदियों की हैं पूरी दुनिया पर राज करना चाहती है। खुद सिगरेट बनाती है। पर खुद नही पीते।खुदने बैंकिंग सिस्टम खोल है। पूरी दुनियाभर भर ब्याज को आम कर दिया। खुद आपस मे ब्याज का लेन देन नही करते।ये है यहूदी इसलिए ( हिटलर)कहता था में इन्हें क्यों मरता हु तुमहे भविष्य में पता चलेगा ।

Ek najar  ALL POST

0 comments:

Veda bhashyakar

सायण भाष्य का महत्व सायणचार्य का जीवन परिचय * सायण ने अपनी रचनामे अपने जीवन चरित्र के विषय मे आवश्यक तथ्यों का निर्देश किय...